दरभंगा-सहरसा की दूरी सौ किलोमीटर कम करनेवाला राज्य मार्ग इस साल के अंत तक हो सकता हैं शुरू।

0
7181

दरभंगा से कोसी की दूरी समेटने वाली बहुप्रतीक्षित दरभंगा-सहरसा स्टेट हाईवे रोड के 700 मीटर का निर्माण अबतक शेष है। फिलहाल बाढ़ और बारिश के दस्तक देने के साथ ही मिट्टी के अभाव मे कार्य अधर में लटक गया हैं। दरभंगा और कोसी पार जिलों की दूरी 100 किलोमीटर तक कम करने वाली दरभंगा-सहरसा स्टेट हाईवे के यातायात के लिए खुलने के जून की डेड लाईन अब फेल हो चुकी हैं। अब इसके इस साल के अंत खुल जाने की उम्मीद हैं। मालूम हो की प्रस्तावित स्टेट हाईवे दरभंगा-सहरसा की 190 किलोमीटर की दूरी को घटा के मात्र 92 किलोमीटर कर देगी। यातायात के लिए कोसी नदी पर बने महासेतु के खुलते ही दरभंगा से सुपौल, मधेपुरा, पुर्णिया की दूरी में 100 से 150 किलोमीटर की कमी आयेंगी। 2.2 किलोमीटर लंबी तीन लेन वाली (15.5 मीटर चौड़ी, दोनो तरफ 1.5-1.5 मीटर फुटपाथ सहित) कोसी महासेतु का बिहार राज्य पुल निर्माण निगम लिमिटेड ने 2012 में समय सीमा से पहले ही निर्माण किया था। एप्रोच रोड के निर्माण मे देरी के कारण अभी तक इसे यातायात के लिए खोला नही जा सका था। एप्रोच रोड के निर्माण मे देरी से नाराज हो कर गेमन इंडिया पर जुर्माना भी लगाया गया था।

अभी सहरसा पहुँचने के लिए लोगों को ईस्ट वेस्ट कॉरीडोर हो 200 किलोमीटर तक का सफर करना पड़ता है। नये रास्ते से ना सिर्फ सहरसा-92 किलोमीटर, सुपौल- 112 किलोमीटर, मधेपुरा-117 किलोमीटर पुर्णिया-202 किलोमीटर रह जायेगा, वही सहरसा, सुपौल, मधेपुरा, पुर्णिया से लोग इस महासेतु हो कर पटना भी जल्द पहुँच सकेंगे। इस पथ के खुलते ही आर्थिक केंद्र के रूप में दरभंगा को और मजबूती मिलेगी, तथा कोसी पार के जिलों के साथ दरभंगा के संबंध और मजबूत होगें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here