पूर्व विधायक संजीव झा एम्स के मुद्धे को लेकर केंद्रीय मंत्री से की मुलाकात । जरूरी खबर

0
1446
सहरसा जिले में एम्स की मांग को लेकर मुलाकात करते हुए पूर्व विधायक संजीव झा

सहरसा । सहरसा के पूर्व बीजेपी विधायक संजीव झा ने केंद्रीय स्वास्थ एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे से उनके आवास पर मुलाकात की । पूर्व विधायक ने केंद्रीय मंत्री से बिहार के वर्तमान राजनीतिक हालात पर विस्तृत रूप से चर्चा की साथ ही साथ सहरसा की समस्याओं से भी अवगत कराया ।पूर्व विधायक ने केंद्रीय मंत्री से उतर बिहार में प्रस्तावित एम्स की शाखा कोशी प्रमंडल मुखालय सहरसा में खोलने की मांग की । केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सहरसा में एम्स खोलने पर विचार किया जाएगा ।

सहरसा में एम्स अस्पताल क्यों जरूरी है ??

सहरसा कोशी प्रमंडल का मुख्याल है। सहरसा में AIIMS खुलने से पूरे मिथिलांचल ,सीमांचल तथा नेपाल के सीमावर्ती इलाकों के लोगो के लिए इलाज कराना आसान होगा। सहरसा के पानी में फ्लोराइड की मात्रा ज्यादा रहने से यहां के लोग कई गंभीर बीमारियों के शिकार हो रहे हैं। सहरसा में समुचित इलाज की व्यवस्था ना होने से लोगो को पटना और दिल्ली पर निर्भर रहना पड़ता है । बाढ़ प्रभावित क्षैत्र होने के कारण दूषित जल पीने से भी लोग कई बीमारियों के सीकर हो रहे है । सहरसा के गोबरगढ़ा सत्तरकटैया प्रखंड में 217.4 एकड़ भूमि एम्स के लिए चयन कर बिहार सरकार को भेजी जा चुकी है, लेकिन सरकार की ओर से कोई जवाब नहीं आया।

एम्स के लिए आंदोलन

सहरसा जिले में अलग अलग संघटन एम्स के निर्माण को लेकर आंदोलन करते रहते है । कोशी एम्स निर्माण संघर्ष समिति के अध्यक्ष विनोद कुमार झा ने सहरसा में एम्स निर्माण हेतु मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री सहित कई लोगों से मुलाकात कर,सहरसा मे एम्स की स्थापना हेतु कोशिश शुरू की हैं।

एम्स निर्माण को लेकर शहर के चर्चित पत्रकार तेजस्वी ठाकुर भी सक्रिय रहते है। इनके द्वारा एम्स के निर्माण को लेकर सोशल मीडिया से लेकर व्यवसाइयों को जागरूक कर व्यवसाइयों के प्रतिष्ठान के ऊपर एम्स की मांग उठाई जा रही है । सहरसा जिले में AIIMS स्थापना की मांग को जरूरी बताते हुए शहर में बोर्ड टांगने का अभियान शुरू हो गया है

शहर के डीबी रोड, महावीर चौक, स्टेशन रोड सहित अन्य क्षेत्रों में दुकानदार अपने अपने दुकान के आगे बोर्ड टांगना शुरू कर दिया रोशनी से लैस फ्लेक्स बोर्ड पर सहरसा को चाहिए एम्स का संदेश लिखा हुआ है, जिससे कि सरकार का ध्यान इस ओर आकृष्ट हो ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here