जाने आरएसएस के बारे में कुछ बाते । सहरसा में आयोजित की गई विजयदशमी उत्सव

0
580

आरएसएस की शुरुवात सन् 1925 में विजयादशमी के दिन डॉ॰ केशव हेडगेवार द्वारा की गयी थी तब से इसे आरएसएस के नाम से ज्यादा जाना जाता है । आरएसएस की स्थापना 1925 में की गई । तब आजादी का आन्दोलन जोरों पर था। और गांधी के नेतृत्व में 1921 का असहयोग आन्दोलन असफल हो गया था । संघ की पहली महिला इकाई 1936 में बनाई गई थी । आरएसएस के दैनिक, साप्ताहिक या मासिक गतिविधियों में शामिल हो कर इसका हिस्सा बन सकते है । इसकी शाखा आपको हर क्षेत्र, विभाग, जिले, प्रांत और केंद्र पर मिल जाएगी इसमे सभी स्तर के संघ मंडली की बैठक होती है इसमे कार्यकर्ता व्यायाम, खेल, सूर्य नमस्कार, समता(परेड), गीत, भजन आदि कार्य करवाते है ।

सहरसा में आरएसएस द्वारा शस्त्र पूजन कार्यक्रम आयोजित किया गया ।

सहरसा में रविवार को आरएसएस इकाई द्वारा पथ संचलन एवं शस्त्र पूजन कार्यक्रम आयोजित किया गया । आरएसएस की स्थापना विजयदशमी के दिन हुई थी इसलिए नवरात्रि में पैदल मार्च कर अपने गौरव और देश को गौरव दिलाने का संकल्प लिया गया । इस संकल्प में भारत के युवाओं को देशहित में नए भारत का निर्माण करने की संकल्प दिलाई गई ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here