राहुल गांधी ने बताया हिंदू होने का मतलब, प्रधानमंत्री मोदी को लगाया गले।

0
375

नईदिल्ली । राहुल गांधी ने लोकसभा में जबरजस्त भाषण दिया । कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने 20 जुलाई को संसद में सरकार के विरुद्ध रखे गए अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में जमकर भाषण दिया। पूर्व में राहुल ने कहा था कि जब वे संसद में बोलेंगे तो भूकंप आ जाएगा। राहुल ने इस बात का भरपूर प्रयास किया कि उनके भाषण पर जोरदार हंगामा हो, यही वजह रही कि राहुल ने राफेल एयरक्राॅफ्ट खरीदने के मामले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर सीधा हमला किया। राहुल ने कहा कि पहले राफेल की कीमत मात्र 580 करोड़ रुपए प्रति जाहज थी, लेकिन इसके बाद जब नरेन्द्र मोदी फ्रांस गए तो अपने साथ उद्योगपतियों को भी ले गए। इसी के बाद राफेल के एक जहाज की कीमत 1600 करोड़ रुपए हो गई। राहुल ने यह भी आरोप लगाया कि इस डील में अकेले एक व्यक्ति को 45 हजार करोड़ रुपए मिले हैं। इतना ही नहीं राहुल ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन के लिए भी कहा कि प्रधानमंत्री के दबाव में रक्षा मंत्री राफेल की कीमत नहीं बता रही है। जिस अंदाज में राहुल ने आरोप लगाए उससे संसद में जोरदार हंगामा हुआ और कुछ समय के लिए संसद की कार्यवाही को स्थगित भी करना पड़ा। राहुल का यह भी कहा रहा कि पहले नोटबंदी और बाद में जीएसटी की वजह से आम व्यक्ति त्रस्त हो गया है। प्रधानमंत्री को सिर्फ उद्योगपतियों की चिंता है, किसानों की नहीं। यही वजह है कि जियो के विज्ञापन में प्रधानमंत्री का फोटो लगाया जाता है। प्रधानमंत्री कहते हैं कि मैं देश का चैकीदार हंू। लेकिन जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के पुत्र जय शाह की कमाई कई हजार गुना बढ़ जाती है तो प्रधानमंत्री चुप हो जाते हैं।

हिन्दू होने का मतलबः

राहुल गांधी ने कहा कि मैं राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और भाजपा का आभारी हूं कि उन्होंने मुझे हिन्दू होने का मतलब समझाया। मुझे शिव का मतलब भी समझाया गया। मैं मानता हूं कि हिन्दू संस्कृति प्यार मोहब्बत वाली है और मैं उसी के अनुरूप आचरण कर रहा हूं । भाजपा के लोग मुझे भले ही पप्पू कहे लेकिन मेरे मन में उनके प्रति कोई नफरत और गुस्सा नहीं है। एक दिन मैं भाजपा के सांसदों को भी कांग्रेसी बनाऊंगा। कांग्रेस ही ऐसे राजनीतिक पार्टी है जो सबको साथ लेकर चलती है। राहुल ने कहा कि मैंने कहा था कि जब संसद में बोलूंगा तो प्रधानमंत्री मुझसे आंख नहीं मिला पाएंगे। आज टीवी के जरिए पूरा देश देख रहा है कि प्रधानमंत्री मुझ से आंख मिलाने की स्थिति में नहीं हैं।

पीएम से गले मिलेः

राहुल गांधी भाषण देने के तुरंत बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पास गए और गले मिले। गले मिलने के बाद राहुल जब जाने लगे तो पीएम मोदी ने रोका और उनकी पीठ थपथपाई। राहुल गांधी जिस अंदाज में पीएम से मिले उसको लेकर सांसदों के बीच अनेक तरह की चर्चाएं हो रही हैं।

रक्षा मंत्री का खंडनः

राहुल गांधी ने अपने भाषण में कहा था कि राफेल डील को लेकर उनकी फ्रांस के राष्ट्रपति से बात हुई थी। फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा कि डील को लेकर कोई गुप्त समझौता नहीं हुआ है। भारत सरकार चाहे तो राफेल की कीमत उजागर कर सकती है। राहुल ने कहा कि रक्षा मंत्री सीतारमन ने झूठ बोला कि फ्रांस के साथ सुरक्षा की दृष्टि से जो समझौता हुआ है उसके अंतर्गत राफेल की कीमत नहीं बताई जा सकती। इस पर सीतारमन ने कहा कि राहुल गांधी संसद और देश को गुमराह कर रहे हैं। कीमत नहीं बताने का समझौता यूपीए सरकार के तबके रक्षा मंत्री एके एंथोनी ने किया था। हमने उसी समझौते को आगे बढ़ाया है। रक्षा मंत्री ने जो समझौता हुआ उसको लोकसभा की अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को भी दिखाया। सीतारमन ने कहा कि राहुल गांधी का कथन पूरी तरह गैर जिम्मेदाराना है। वैसे कल से ही राहुल गांधी सोशल मीडिया पर टेंड हो रहे थे कि मैं मुंह खोलंगा तो सुनामी अा जाएगी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here