बिहार में आकर झारखंड के मुख्यमंत्री भूले इतिहास ! जानिए क्या है मामला

0
545

पटना । अभी तक सर्वोच्च पद पर बैठे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर ही आरोप लग रहे थे कि वह इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पेश कर रहे है ,लेकिन बीजेपी के अन्य नेता भी इसी रास्ते पर चल पड़े है । इतिहास को तोड़ मरोड़ कर पेश कर अपनी ही पार्टी को शर्मिंदा कर रहे है ।

मुख्यमंत्री ने इतिहास को ही बदल दिया

अभी ताजा मामला, झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने ऐसा बयान दिया कि लोग हैरान हो गए । उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने नमक आंदोलन की शुरुवात बिहार के चंपारण से की । रघुवर दास पटना में तेली और साहू समाज (व्यापारियों) को संभोधित कर रहे थे । उन्होंने कहा कि बिहार की धरती ने हमेशा दूसरों को बढ़ने का रास्ता दिखाया है चाहे लोकनायक जाय प्रकाश नारायण हो या महात्मा गांधी । झारखंड के मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी चंपारण की धरती से महात्मा गांधी ने नमक आंदोलन की शुरुआत की थी




चंपारण और नमक आंदोलन का इतिहास

रघुवर दास को यह जानकारी नहीं थी कि महात्मा गांधी ने नमक आंदोलन नहीं बल्कि चंपारण सत्याग्रह की शुरुवात की थी । 1917 बिहार से की थी जिसे नील विद्रोह आंदोलन भी कहा जाता है । गांधी जी ने अंग्रजी हुकूमत के खिलाफ पहला आंदोलन बिहार में किया कहा किसानों को नील की खेती करने पर मजबुर किया गया था, इसी आंदोलन से एक महात्मा को देश ने पहचाना था जो आगे चलकर महत्मा गांधी कहलाए । जहा तक नमक आंदोलन की बात की जाय तो गांधी जी ने इस आंदोलन की शुरुआत 1930 में की थी, जिसे दांडी यात्रा भी कहते है । गांधी जी ने गुजरात के साबरमती से दांडी तक पैदल यात्रा की और सरकार के नए नमक कानून का विरोध किया था । महात्मा गांधी के अहिंसा नीति ने ही भारत को स्वतंत्रता दिलाई थी ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here