प्रीमियम ट्रेन वैशाली एक्सप्रेस हेड ऑन जेनरेशन प्रणाली से हुआ लेस, रेल मंडल ने किया चयन।

0
3479

समस्तीपुर रेल मंडल से गुजरने वाली वैशाली एक्सप्रेस के इंजन को हेड ऑन जेनरेशन प्रणाली से लैस किया गया। इसे शुक्रवार को चली सहरसा से नई दिल्ली के लिए चली ट्रैन में जोड़ा गया। बता दें कि इसका रेल मंडल ने चुनाव किया है। इसको जल्दी ही सारी सुविधाओं से युक्त करने की दिशा में काम किए जाएंगे। मालूम हो कि यह प्रणाली के लगने से ट्रेन चलने पर कम उर्जा की खपत होगी। साथ ही एक अलग कोच को जोड़ने में आसानी होगी।

www.waveclasses.org

जानिए हेड ऑन जेनरेशन प्रणाली को

बताते चलें कि हेड ऑन जेनरेशन प्रणाली को ट्रेन के इंजनों में लगाया जाता है। आधुनिक तकनीक के कारण इसमें ईंधन कम लगता है। वहीं सिर्फ बिजली से चलने वाली ट्रेनों में ओवर हेड वायर से परिचालन किया जाता है। इसके साथ ही कोच में बिजली की आपूर्ति ट्रेन में लगे पावर ब्रेक के द्वारा दिया जाता है। जिससे ईंधन की खपत ज्यादा होती है।

अधिक संख्या में सफर कर सकेंगे यात्री

हेड ऑन जेनरेशन प्रणाली के इंजन से ईंधन की बचत होती है। बता दें कि एलएचबी कोच वाले ट्रेनों में अभी उर्जा की आपूर्ति दो पावर ब्रेक या जेनरेटर के माध्यम से दिया जाता है। एचओजी लगने का यह फायदा होगा कि एक पावर ब्रेक को हटाकर एक अलग कोच जोड़ा जाएगा। जिससे ज्यादा संख्या में यात्री सफर कर सकते हैं। लेकिन इस प्रणाली का उपयोग करने के लिए पहले पूरा मार्ग विद्युतीकरण होना चाहिए।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here