मधेपुरा सीट पर इस बार दिग्गजों की खास नजर, कौन होगा उम्मीदवार जानने के लिए करना होगा इंतजार?

0
360

लोकसभा चुनाव का शंखनाद होते ही मधेपुरा संसदीय क्षेत्र में लोगों की निगाहें महागठबंधन की तस्वीर साफ होने पर टिकी हैं। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में राजद के टिकट पर विजयी हुए सांसद राजेश रंजन ऊर्फ पप्पू यादव और द्वितीय स्थान पर रहे जदयू के टिकट पर लड़नेवाले शरद यादव अलग-अलग पार्टी बनाकर राजनीति कर रहे हैं। दोनों दिग्गज नेता किसी न किसी रूप में महागठबंधन से टिकट लेकर मधेपुरा सीट से चुनाव मैदान में कूदने की जुगत में हैं। एनडीए में सीटों का तालमेल होने  के बाद मधेपुरा सीट जदयू के खाते में जाने की अटकलें हैं।

मधेपुरा के वर्तमान सांसद व जाप संरक्षक पप्पू यादव यहां से चुनाव लड़ने की दावेदारी कर चुके हैं। जाप के प्रदेश अध्यक्ष अखलाक अहमद पप्पू यादव के मधेपुरा से चुनाव लड़ने की घोषणा भी कर चुके हैं। पप्पू यादव भी कांग्रेस से मिलकर महागठबंधन से टिकट पाने की मंशा जाहिर कर चुके हैं। महागठबंधन नहीं होने पर पप्पू यादव का मधेपुरा से अपनी पार्टी के चिह्न पर चुनाव मैदान में कूदना तय माना जा रहा है। दूसरी ओर, राजद की परंपरागत सीट होने के कारण पार्टी का बड़ा धरा यहां से अपना उम्मीदवार चाहते हैं।

जानकार कहते है की गठबंधन के टिकट पर मधेपुरा से चुनाव लड़ने की तैयारी में जुटे शरद यादव पर एक बार फिर लालटेन थामने का दबाव है। चर्चा है कि शरद यादव के लालटेन पकड़ने की स्थिति में उन्हें महागठबंधन से उम्मीदवार बनाया जा सकता है। एनडीए की ओर से जदयू के प्रत्याशी उतारने की अटकलबाजी के बीच संभावित प्रत्याशियों के नामों को लेकर भी कयासबाजी का दौर शुरू हो गया है। 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here