बिस्कोमॉन के कई केंद्रों पर 35 रुपये किलो बिक रहा प्याज, लोगों की उमड़ रहीं है भीड़

0
455

सहकारी क्षेत्र में कभी-कभार ऐसे अवसर आते हैं जब यह लोगों का ध्यान आकर्षित करता है। बिहार में बिस्कोमॉन द्वारा सस्ते दर पर प्याज की बिक्री ने बड़े पैमान पर सुर्खियों बटोरी है। बिस्कोमॉन कई केंद्रों और मोबाइल वैन के माध्यम से 35 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से प्याज बेच रहा है, जबकि खुले बाजार में प्याज 70 रुपये प्रति किलोग्राम पर बिक रहा है।सस्ते दर पर प्याज की बिक्री से कानून-व्यवस्था चरमरा गई है जिसके लिए सामान्य रूप से पुलिस बल और कभी-कभी संबंधित क्षेत्रों के एसपी और डीएम प्याज की बिक्री की देखरेख करते हैं। दो किलो के हिसाब से प्रति ग्राहक को दी जा रही है।

सोनपुर मेले में बिस्कोमान प्याज की बिक्री का उद्घाटन

“राज्य के सहकारिता मंत्री राणा रणधीर सिंह ने सोनपुर मेले में बिस्कोमान प्याज की बिक्री का उद्घाटन किया, जबकि हमने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गांव “कल्याण बिगहा” में एक मोबाइल वैन भेजी। मुझे इस बात की ठोस जानकारी है कि सीएम के परिवार के सदस्यों ने हमारी वैन से प्याज खरीदा है”, बिस्कोमान के चेयरमैन सुनील सिंह ने कहा, जो रातो-रात सेलिब्रिटी बन गये हैं। सीएम के गांव में जिला मजिस्ट्रेट ने बिक्री पर नजर रखी। झारखंड में पुलिस बल के बिना प्याज की बिक्री संभव नहीं है। सुनील ने विस्तार से बताया कि प्याज की बिक्री के लिए झारखंड में विशाल गगनचुंबी होर्डिंग लगाया गया है।उन्होंने कहा, ‘रांची में हमने अब तक लगभग 300 टन प्याज बेचे हैं, जिसका मतलब है कि प्रत्येक को 2 के हिसाब से लगभग 1.5 लाख लोग लाभान्वित हुए हैं। पटना का भी यही हाल है। यह एक छोटा आंकड़ा नहीं है। बिक्री के सभी विवरण खरीदारों और उनके मोबाइल नंबरों सहित कम्प्यूटरीकृत हैं।

35 रुपये में बिक रहा प्याज

सुनील ने कहा, “हम किसी भी अनहोनी के प्रति सावधान हैं और वास्तव में बिस्कोमान बिक्री काउंटर से 35 रुपये से अधिक की दर से प्याज खरीदने वाले किसी भी व्यक्ति को 5000/- रुपये का नकद पुरस्कार देने की घोषणा की है, जैसा कि हमने यूरिया के मामले में किया था। मुझे अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है”। लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरने का प्रयास करते हुए, बिस्कोमॉन उत्कृष्ट काम कर रहा है, जिसमें 100 दैनिक यात्री रात भर प्याज को 2 किलो के पैकेट में पैक कर रहे हैं। सुबह-सुबह ही वैन तैयार होकर बिक्री के लिए निकाल पड़ते हैं। पटना के सभी प्रमुख पार्कों में सुबह-सुबह मोबाइल वैन को देखा जा सकता है, जिसका लाभ सुबह की सैर करने वाले भी उठा रहे हैं। इसी तरह, पटना सचिवालय में शाम 4 बजे मोबाइल वैन पहुँचती हैं ताकि जब बाबू ऑफिस से बाहर आएं तो वे सस्ती दरों पर प्याज खरीद सकें। उन्होंने कहा कि जिनके आस-पास वैन नहीं पहुँच रही है, वे बिस्कोमान के मुख्य कार्यालय जा सकते हैं, जहाँ 50 काउंटर खोले गए हैं।

सुनील सिंह, जो बिस्कोमान को प्याज की आपूर्ति करने वाले नेफेड के बोर्ड में भी हैं, ने इसके पहले सेब की बिक्री के लिए भी ऐसा ही प्रयास किया था जिसे पूरे बिहार में बहुत बड़ी सफलता मिली थी। विश्वस्त स्रोत का कहना है कि नेफेड सभी राज्यों में अपने सदस्य-सहकारी संघों को सेब या प्याज भेजता है, लेकिन आमतौर पर बिचौलिये गड़बड़ी कर देते हैं।

“सामान्य रूप से इसका श्रेय बिस्कोमुन और सुनील सिंह जाता है और विशेष रूप से नेफेड को जो सामान सीधे उपभोक्ताओं तक पहुँचता है। इस तरह वह सहकारी की अवधारणा के अनुरूप एक महान सेवा कर रहे हैं”, उनके सहयोगियों ने कहा।सुनील अपनी ओर से कहते हैं कि किसी ब्रांड के प्रति जनता का विश्वास प्राप्त करने में बहुत संघर्ष करना पड़ता है। आगे बताते हुए वह कहते हैं कि बिस्कोमॉन इफको के डीएपी को 1200 रुपये प्रति बैग में बेचता है जिसका खुले बाजार में मूल्य केवल 1100 रुपये प्रति बैग है। फिर भी लोग हमारे डीएपी को अधिक दरों पर खरीदते हैं। यह इफको का ब्रांड मूल्य है जिससे बिस्कोमॉन को बहुत फायदा हुआ है। उन्होंने इफको के एमडी डॉ यूएस अवस्थी का धन्यवाद करते हुए कहा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here