मिथिला पेंटिंग कोर्स करने को मधुबनी में बनेगा मिथिला कला संस्थान,नीतीश कुमार ने किया शिलान्यास

0
621

विश्व में मिथिला पेंटिंग्स की अलग पहचान है। इसकी चाहत रखने वालों की संख्या लाखों में नहीं बल्कि करोड़ों में है। ऐसे में मिथिला पेंटिंग्स की जन्मस्थली यानी मधुबनी में एक ऐसे संस्थान की जरूरत थी, जो इसमें रुचि रखने वाले लोगों व कलाकारों के लिए वरदान साबित हो। इसे ध्यान में रखते हुए सरकार ने मिथिला कला संस्थान की स्थापना का निर्णय लिया। 

गुरुवार को सौराठ संस्कृत उच्च विद्यालय मैदान के समीप मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भवन का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि इस संस्थान में हर प्रदेश के लोग सर्टिफिकेट व डिग्री कोर्स कर सकते हैं। सर्टिफिकेट कोर्स छह माह व डिग्री कोर्स तीन वर्ष का होगा। रहने-खाने की व्यवस्था संस्थान की ओर से मुफ्त में होगी।

सीएम ने अपनी सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा कि इंटर पास सभी छात्र-छात्राओं को अब उच्च शिक्षा की पढ़ाई करने के लिए वित्त निगम की ओर से चार लाख का लोन दिया जाएगा। लाभार्थी छात्रों को महज 4 प्रतिशत ब्याज की दर से ऋण का भुगतान करना पड़ेगा। 

अगस्त 2020 तक बन कर तैयार हो जाएगा चित्रकला संस्थान
मिथिला चित्रकला संस्थान अगस्त 2020 में बनकर तैयार हो जाएगा। इसमें पढ़ने वाले छात्र-छात्राएं मधुबनी पेंटिंग बनाने की कला सिखेंगे। इस मौके लोगों को संबोधित करते सीएम ने कहा कि हम सदैव मिथिला के विकास की बात करते हैं। हम तो यहां तक कहते हैं कि जब तक बिहार का विकास नहीं होगा, तब तक देश के विकास की बात करना बेमानी है। ठीक उसी तरह बिना मिथिला के विकास के बिना बिहार का  विकास नहीं हो सकता। 

कोर्स के लिए 11 छात्राओं ने किया नामांकन

चित्रकला संस्थान में भी सर्टिफिकेशन कोर्स में 11 छात्राओं का नामांकन किया गया है। उन्हें जापान यात्रा के क्रम में जापान में मिथिला म्युजियम होने की जानकारी मिली थी। उन्होंने कहा कि सांकेतिक तौर पर वर्ग संचालन शुरू कर दिया गया है। मिथिला पेंटिंग से सभी समाज के लोग जुड़े है। लड़कियों की इसमें विशेष रूचि है। कला का विकास तो होगा ही साथ-साथ आर्थिक रूप से भी महिलाएं सशक्त होंगी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here