एनसीटीई ने बिहार के ढ़ाई लाख शिक्षकों को दिया झटका, N.I.O.S से डीएलएड किए प्रारंभिक शिक्षक बनने के योग्य नहीं।

0
1690

बिहार में 18 सितंबर से प्रारंभिक शिक्षक नियोजन के लिए आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगा। वहीं एनसीटीई ने ढ़ाई लाख शिक्षकों को जोर का झटका दिया है। एनआईओएस से 18 महीने का डीएलएड करने वाले शिक्षक इस नियोजन में भाग नहीं ले पाएंगे। बिहार सरकार को एनसीटीई ने इसको लेकर स्पष्ट कर दिया है। ये कोर्स टीचर बनने की योग्यता में शामिल नहीं है।

2 साल के बजाय 18 महीने का कोर्स

बताते चलें कि शिक्षा विभाग के मुख्य सचिव आरके महाजन को एनसीटीई ने पत्र भी जारी कर दिया है। क्लास एक से पांच और छह से आठ में बहाली के लिए एलिमेंट्री एजुकेशन में दो वर्षीय डिप्लोमा (डीएलएड) करने वालो की मान्यता होगी। N.I.O.S ने एनआरसी और एनसीटीई के 22 सितंबर, 2017 के निर्देश से सरकारी, प्राइवेट और अनुदानित प्रारंभिक विद्यालयों में बहाल अनट्रेंड टीचरों को इन सर्विस ट्रेनिंग के रुप में कार्यक्रम चलाया था। जो दो साल के बजाय 18 महीने की थी।

शिक्षकों में मचा हड़कंप

एनसीटीई के आपत्ति के बाद यह तो साफ हो गया है कि एनआईओएस से डीएलएड करने वाले इस नियोजन का हिस्सा नहीं बनेंगे। बता दें कि देश भर के 12 लाख और बिहार के लगभग ढ़ाई लाख शिक्षकों ने 18 माह का ये कोर्स किया था। लेकिन अब इनमें से कोई भी प्राथमिक विद्यालय के लिए आवेदन नहीं कर सकते। मालूम हो कि इस नये आदेश के बाद शिक्षकों में हड़कंप मच गया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here