सहरसा जं पर बिना शेड के ही किया जा रहा नए प्लेटफार्म का निर्माण ! ए ग्रेड स्टेशन के साथ मजाक

0
16219

सहरसा: ए ग्रेड के दर्जा प्राप्त सहरसा जं पर बन रहे प्लेटफार्म संख्या 4 और 5 के निर्माण में रेलवे द्वारा प्लानिंग के बिना इसका निर्माण जारी है। प्लेटफॉर्म पर लगायें जा रही शेड एक तरह से लोंगो की भीड़ से व्यस्त रहने वाले सहरसा जंक्शन के साथ मजाक है। शेड के नाम पर छोटे छोटे शेड लगाए जा रहे है, ताकि कुछ यात्रियों को धूप से बचा पाए। बाकी यात्री धूप और बारिश में अपना ध्यान खुद रखें। दिसंबर 2016 से मेगब्लॉक के बाद प्लेटफार्म संख्या 3, 4 और 5 को बनाने की अवधि मार्च 2017 रखी गई थी, लेकिन निर्माण से जुड़े अभियंता और ठेकेदार हमेशा मिट्टी का या बालू का बहाना बनाकर इसे टालते गए। अब जब प्लेटफार्म संख्या 4 और 5 को तैयार किया जा रहा है, तो पूरे प्लेटफार्म पर शेड नजर नहीं आ रहा। मालूम हो की 1 करोड़ की लागत से प्लेटफार्म का निर्माण होना है, लेकिन प्लेटफार्म पर चल रहे निर्माण पर सवाल उठना लाजमी है। सहरसा जं पूरे समस्तीपुर रेल मंडल में राजस्व के मामले में दूसरे स्थान पर है, ऐसे में 2 वर्ष के इंतजार के बाद ऐसे प्लेटफार्म का निर्माण करना रेलवे की दोहरी नीति को दर्शाता है ।

प्लेटफार्म पर किया जा रहा निर्माण

फिलहाल प्लेटफार्म संख्या 4 और 5 पर ढलाई का काम चल रहा है, लेकिन शेड के नाम पर यात्रियों को खुले में ही ट्रेन पकड़नी पड़ेगी। रेलवे इस प्लेटफार्म का निर्माण दिसंबर तक पूरा कर ट्रेन चलाने की तैयारी में है। मालूम हो की सहरसा से बरुआरी तक दिसंबर से ट्रेन चल सकती है, इसके लिए केबल की कमी को पूरा किया जा रहा है। सिग्नल के काम के लिए केबल का आना शुरू हो चुका है, जल्द ही बरुआरि तक केवल बिछाने का काम शुरू किया जाएगा। प्लेटफार्म के उत्तरी हिस्से के कुछ दूरी तक के लिए ही शेड लगाने के लिए पिलर दिया गया है।

फुट ओवरब्रिज का काम अंतिम चरण में ।

प्लेटफार्म संख्या 2 को 3, 4 और 5 को जोड़ने के लिए फुट रेल ओवरब्रिज का काम पूरा कर लिया गया हैं। ओवरब्रिज की ढलाई कर रंगने का काम अंतिम चरण में है, इसे जल्द यात्रियों के लिए खोला जा सकता है। साथ ही प्लेटफार्म संख्या 3 पर टाइल्स बिछाने का काम किया जा रहा है, लेकिन शेड लगाने का काम अभी तक शुरू नहीं हो पाया ।

टाईल्स लगाने का कार्य प्रगति पर

सहरसा जं के प्लेटफार्म संख्या 3 पर टाइल्स लगाया जा रहा है, लेकिन रेलवे ने अभी तक छोटी लाइन की शेड तोड़कर हटाने का काम अधूरा छोड़ रखा है। साथ ही शेड की लंबाई के विस्तार पर कोई ठोस नीति नहीं दिख रही। रेल निर्माण अभियंता के देख रेख में कैसा प्लेटफार्म का निर्माण हो रहा है ये तो वक़्त ही बताएगा । लेकिन रेलवे के कारनामों से आने वाले दिनों में यात्रियों कि मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

जंक्शन पर अन्य प्लेटफॉर्म का स्थिति

जंक्शन पर वर्तमान में प्लेटफार्म पर ढ़ाचा खड़ा करने का काम प्रगति पर है, दिसंबर तक प्लेटफॉर्म तैयार कर गढ़ बरूआरी तक ट्रेनो को चलाने की योजना हैं। अगले चरण मे सुपौल तक ट्रेन परिचालन की योजना है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here