हरियाणा , यूपी और बिहार के छात्रों के साथ मुखर्जी नगर में राज्यो के नाम पर होता है दुर्व्यवहार ,छात्र सड़क पर उतरे

0
2855

नईदिल्ली देश की राजधानी दिल्ली में सपने लिए देश भर से हजारों बच्चे आते है, ज्यादातर बच्चे आईएएस बनने का ख्वाब लेकर तो कुछ लोग एसएससी सीजीएल की तैयारी करने दिल्ली एनसीआर में आते है, इनमें इंस्पेक्टर बनने का ख्वाब हजारों बच्चे लिए मुखर्जी नगर आते है, और रहने के लिए आस पास का इलाका ढूंढते है। इनमें बिहार, यूपी, हरियाणा के बच्चे ज्यादातर होते है, लेकिन मकान मालिकों का दोहरा रवैया सामने अक्सर आता है। कोई स्टेट के नाम में रूम नहीं देता तो कोई उनके साथ अन्य कारणों से दुर्व्यवहार करता है ।

मकान मालिक करते हैं दुर्व्यवहार

फिलहाल दिल्ली स्थित मुखर्जी नगर में रहने वाले छात्रों और मकान मालिकों के बीच तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है। छात्रों का आरोप है, की कोचिंग फी से 5 गुना ज्यादा रूम रेंट देना पड़ता है। छात्रों के मुताबिक मुखर्जी नगर के हर गली मुहल्ले में दलाल बैठे है, जो रूम के नाम के एडवांस के रूप में आधी महीने का किराया और सिक्योरिटी मनी के नाम पर 30 से 40 हजार वसूलते है। आज तक इन मकान मालिकों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई, उल्टा छात्रों को जलील किया जाता है। राज्यो के नाम पर ओछी टिप्पणियां की जाती है, जो सभ्य समाज में हम और आप उपयोग ना करे।

छात्र विरोध करने सड़को पर उतरे ।

आज मुखर्जी नगर में इसी का विरोध जताते हुए बाहर से आए हजारों छात्र सड़क पर है और आज कैंडल मार्च निकालकर विरोध करेंगे। मालूम हो की मुखर्जी नगर में किचन से भी छोटे कमरे है, जिनका किराया के नाम पर 10 से 15 हजार तक वसूले जाते है। एक छात्र पर क्या असर होता होगा,जो ऐसे छोटे छोटे कमरे में रहने को मजबुर होते हैं। छात्रों का कहना है, की दिल्ली सरकार को नियम बनाकर छात्रों का किराया 3 हजार करना चाहिए। साथ ही छात्रों पर ज़ुल्म करने वाले पीजी संचालकों और मकान मालिकों पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। ऐसे लोग जो छात्रों के पैसे पे अपना गुजारा करते है, और उन्हें यूपी बिहार और हरियाणा के नाम पर गालियां देते है पर कार्यवाही से ऐसे मामलों में कमी आयेंगी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here