मधुबनी पेंटिंग विवाद को ले रोकी गई ट्रेनें, रेलवे प्रशासन के सामने रखीं गयी कई मांगे

0
2168

मधुबनी: स्टेशन पर शुरू हुआ मिथिला पेंटिंग का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा, सैकड़ों लोगों ने आंदोलन के तहत मधुबनी स्टेशन पर ट्रेनों का परिचालन रोक दिया। आंदोलनकारियों मिथिला पेंटिंग विवाद में जांच की मांगा के तहत स्टेशन पर जमा हुए थे, आंदोलन में सीमा कुमारी , चतुरानंद झा, रत्नेश झा, रमेश मंडल, रानी कुमारी, हेमा कुमारी, चंद्रकांत बारी, आनन्द लाल, विजय कुमार, अमरेंद्र कुमार, सत्यजीत झा क्राफ्टवाला और ग्राम विकास परिषद आदि के कलाकारों ने अपनी सक्रिय भागीदारी दी ।

एक सप्ताह पहले रेलवे के आश्वासन पर कार्यवाही ना होने पर रोकी गयीं रेल

आंदोलन के तहत रोकी गई ट्रेने।

मालूम हो की पिछले सप्ताह को मधुबनी स्टेशन पर मिथिला चित्रकला के कलाकारों द्वारा जयनगर-दिल्ली स्वतंत्रता सेनानी सुपरफास्ट एक्सप्रेस रोकी गयीं थी। रेलवे प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद आंदोलन को एक सप्ताह के लिए स्थगित किया गया था। आदोलनकारियों ने सात दिन के अंदर पूरे मधुबनी स्टेशन प्रकरण की जांच हेतू एक निष्पक्ष कमिटी का गठन एवं कमिटी द्वारा इस प्रकरण की जांच करवाने की मांग की गई थी।

मांगे पूरी ना होने पर शनिवार को फिर मधुबनी स्टेशन पर परिचालन रोका गया।

13 जुलाई के प्रदर्शन के अल्टीमेटम की दिन की अवधि पूरी हो जाने के पर कलाकारों ने पुनः ज्ञापन और ईमेल के माध्यम से रेलमंत्री भारत सरकार, जी एम हाजीपुर, डी आर एम / ए डी आर एम समस्तीपुर को 24 घण्टे की और मौहलत दी गई थी। आज इस 24 घण्टे पूरा हो जाने के बाद दिन के 12 बजे सैकड़ो कलाकारों ने मधुबनी स्टेशन पहुंच ट्रेन परिचालन को रोक दिया।

कलाकारों ने रेलवे पर आरोप लगाते हुवे निम्न बाते कहीं हैं

1. रेलवे इस पूरे आयोजन के आय व्यय का लेखा जोखा सार्वजनिक करे ।

2. कार्यक्रम समाप्ति के कई महीनों के बाद किस आधार पर करोड़ों के टर्नओवर वाली पब्लिक सेक्टर की कंपनियों को इस पूरे आयोजन का आयोजक दिखाया गया । इस मामले की जांच हो ।

3. कलाकारों के संग्रह में मुख्य भूमिका निभाने वाले क्राफ्टवाला और ग्राम विकास परिषद को इस आयोजन में मदद के लिए प्रशस्ति पत्र जारी करें।

4. किस आधार पर 200 से अधिक कलाकारों में से मात्र 5 कलाकारों को मधुबनी स्टेशन पर काम किये कलाकारों का प्रतिनिधि बना रेलमंत्री से सम्मानित किया गया। इसके पीछे किस अधिकारी और कलाकारों की मिलीभगत है उसकी जांच हो।

5.यदि ये 5 कलाकार मधुबनी स्टेशन पर काम किये कलाकारों के प्रतिनिधि बनके रेलमंत्री से मधुबनी स्टेशन को स्वच्छता और सुंदरता में द्वितीय स्थान आने का पुरस्कार लेने गए थे । तो रेलवे द्वारा किस आधार पर उन 5 कलाकारों के व्यक्तिगत नामों से सर्टिफिकेट जारी किया गया । इस तरह की लापरवाही क्यों ?

6. पूरे मधुबनी स्टेशन पर हुआ पेंटिंग कार्य जब श्रमदा था तो कलाकारों को दिए गए प्रशस्ति पत्र में श्रमदान शब्द का उल्लेख ना होना और करोड़ो के टर्न ओवर वाली पब्लिक सेक्टर की कंपनियाँ (पावर ग्रिड कॉरपोरेसहन, कोल इंडिया लिमिटेड आदी) को अंदर ही अंदर प्रायोजक बना इस पूरे आयोजन को कलाकारों के श्रमदान से बदल कर कम्पनियों के सौजन्य से कर देना । किसी घोटाले की ओर संकेत करता है।

क्राफ्टवाला राकेश झा का कहना है कि सम्पूर्ण मधुबनी स्टेशन मिथिला पेंटिंग से सजाने के प्रस्ताव का उल्लेख खुद DRM समस्तीपुर रवींद्र कुमार जैन ने 2 ओकटुबर को मधुबनी स्टेशन पर हुए कार्यक्रम में अपने सम्बोधन में मानते हुवे राकेश झा के प्रयासों की सराहना की थी । पर जैसे जैसे ये कार्य आगे बढ़ा रेलवे के अधिकारी गणनाथ झा ने इस पूरे प्रोजेक्ट के उद्दश्यों को अपने अहंकार की भेंट चढ़ा दी। परिणामस्वरूप जो मधुबनी और मिथिला चित्रकला का नाम गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में शामिल होना था वो तो नही ही हुवा साथ ही साथ गणनाथ झा की एक से बढ़कर एक बचकानी हरकतों ने इस पूरे आयोजन को ही विवादित बना दिया । कलाकार सोनू निशांत ने कहा है कि इस सारे प्रकरण में आज कलाकार खुद को ठगे महसूस कर रहे हैं। ऐसे में सबसे बड़ा प्रश्न ये उठता है कि इन सबके लिए कौन जिम्मेवार है?

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here