जनरल डिब्बों में चढ़ने के दौरान सीटों की मारामारी से मिलेगी राहत?नए तरीके से आसान होगा सफर

0
5013

यात्रियों को जेनरल बोगी के डब्बे में चढ़ने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है। बता दें कि अक्सर लोग यात्रा करते समय धक्का-मुक्की, मारपीट करने पर उतारू हो जाते हैं। इसके निजात पाने के लिए आरपीएफ ने एक योजना बनाई है। रेल मंडल के समस्तीपुर जंक्शन सहित सभी मुख्य स्टेशनों पर कियोस्क लगाया जाएगा। जहां इस मशीन के द्वारा सामान्य कोच में सवार होने वाले यात्रियों की बायोमीट्रिक जानकारियां दर्ज होगी। जिसके बाद कोच में घुसने की अनुमति मिलेगी।

आधार नं और फिंगर प्रिंट डालने के बाद ट्रेन में होंगे सवार

बताते चलें कि जेनरल बोगी के कोच में यात्रियों की भीड़ और लाइन में गड़बड़ी को लेकर रेलवे ने कियोस्क लगाने का निर्णय लिया है। इससे रेलवे पुलिस को भी सामान्य कोच में यात्रा करने वाले यात्रियों को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी। कियोस्क सिस्टम उन स्टेशनों पर लगाया जाएगा, जहां से ट्रेन को रवाना किया जाता है। ये मशीन आरपीएफ पोस्ट के पास होगी, जहां पर यात्रियों को अपने आधार नंबर एवं कियोस्क में फिंगर प्रिंट डालना होगा।

यात्रा करने की स्थिति होगी बेहतर

दरभंगा, जयनगर, सहरसा डिपो से अधिकतर ट्रेनें रवाना की जाती है। ऐसे में वहां इस मशीन का ज्यादा लाभ होगा। बता दें कि बीच में चढ़ने वाले यात्रियों की संख्या कैसे नियंत्रित होगी, इसको लेकर स्थिति साफ नहीं है। मालूम हो कि लंबी दूरी की एक्सप्रेस ट्रेनों के जेनरल कोच में यात्रियों का सफर एक जंग लड़ने जैसा होता है। जहां क्षमता से तीन गुना यात्री सवार रहते हैं। कोई गेट से लटकता है, तो कोई कपड़ा टांगकर सीट बना लेता है। जिससे अन्य यात्री को काफी मुश्किल हो जाती है। कियोस्क मशीन लगने के बाद सामान्य श्रेणी के डब्बों में यात्रा करने की स्थिति बेहतर होगी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here