अभिषद एवं अधिषद की गरिमा की लिए विश्वविद्यालय कर्मियों का कलम बंद हड़ताल।

0
90

दरभंगा: ललित नारायण मिथिला विश्वविधालय प्रशासन द्वारा आउटसोर्स कर्मचारियों कों बरगलाने और अभिषद में लिए गए निर्णय की अवमानना के विरोध में विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ के उपाध्यक्ष मनीष कुमार एवं सचिव साकेत मिश्र अगुवाई में विश्वविधालय कर्मचारी संघ द्वारा आज लगभग 206 विश्वविद्यालय कर्मीयों द्वारा आज विश्वविद्यालय मुख्यालय में प्रातः 10:30 से अपराह्न 6:00 बजे तक सांकेतिक, कलम बंद हड़ताल किया गया। इस दौरान मुख्यालय के सभी विभाग के चतुर्थ एवं तृतीयवर्गीय कर्मी ने इस सांकेतिक हड़ताल दिनांक 29.10.2018 को अभिसद एवं दिनांक 12.12.2018 को अधिसद द्वारा स्वीकृत मद को लागू नही करने के कारण आज कार्य का बहिष्कार किया।

कर्मचारियों ने रखी कई मांगे

कर्मियों ने विश्वविद्यालय प्रशासन से अभिसद एवं अधिसद की गरिमा को कायम रखने एवं उनके द्वारा लिए गए निर्णय का अनुपालन न करने के विरोध में आज अपनी मांग रखी। इस दौरान विश्वविद्यालय के सभी कर्मियों ने इस सांकेतिक हड़ताल का समर्थन दिया जिससे विश्वविधालय का कार्य पूरी तरह ठप रहा । आउटसोर्स कर्मचारियों ने प्रशासन के समक्ष यह मांग रखी कि अगर पूर्व में लिए गए निर्णयों का अनुपालन नही होता है तो कर्मचारी संघ मजबूरन अनिश्चत कालीन हड़ताल करने को बाध्य होगा। संघ ने प्रशासन को स्पष्ट रूप से बताया कि विश्वविद्यालय का सबसे मजबूत स्तंभ अधिसड और अभिसद होता है जिसके निर्णयों को झुठलाया जा रहा है।

सांकेतिक हड़ताल को मिला 206 कर्मचारियों का साथ


ज्ञातव्य हो कि माननीय कुलपति प्रो. सुरेंद्र कुमार सिंह के कुशल निर्देशन में ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय का बिहार में शैक्षणिक स्तर और मनोबल ऊँचा हुआ है। अतः आउटसोर्स कर्मियों के पाल्य, परिवार एवं उनके भविष्य को ध्यान में रखते हुए कर्मचारी संघ विश्वविद्यालय प्रशासन के समक्ष नैतिक एवं न्यायसंगत निर्णय की आशा और अपेक्षा करता है जिससे कर्मियों का भविष्य अंधकार होने से बच सके। आज के सांकेतिक एवं कलकमबन्द हड़ताल में संघ के उपाध्यक्ष, मनीष कुमार, सचिव साकेत मिश्र तथा कुलपति सचिवालय, कुलसचिव कार्यालय, परीक्षा विभाग, पीएचडी कार्यालय, पेंसन विभाग, स्थापना विभाग, एवं मुख्यालय के सभी विभागों सहित स्ववित्तपोषित संस्थानों के कर्मी सहित महत्वपूर्ण कार्यालयों के कर्मियों में कौशलानंदन श्रीवास्तव, अमीतेश कुमार, इम्तियाज़, अशोक कुमार झा, कुंदन..अविनास, विभास.रवि, धीरज सहित लगभग 206 कर्मियों ने संघ के कलकमबन्द हड़ताल में साथ दिया।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here