मिथिलां पेंटिंग से सज रहा बिहार का ये प्रमुख विश्वविद्यालय,देखते ही बन रही खूबसूरती

0
1772

मिथिला पेंटिंग का जादू इन दिनों सर चढ़ के बोल रहा है। इसकी चित्रकारी से लोग बहुत प्रभावित हो रहे हैं। ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय में जगह-जगह पेंटिंग बनाई जा रही है। इससे विश्वविद्यालय की सुंदरता देखते ही बन रही है। बता दें कि पेंटिंग का काम खत्म होने पर और कितना मनमोहक लगेगा, इसकी कल्पना आप सहज ही कर सकते हैं। इसी कड़ी में अगला कदम दरभंगा समाहरणालय का भी नाम जुड़ने जा रहा है। शहर की खुबसूरती को बढ़ावा देने के लिए सरकारी भवनों को भी मिथिला पेंटिंग से सुसज्जित किया जाएगा।

पेंटिंग की कलाकृतियों को देख संस्कृति और सभ्यता से होंगे रूबरू

मालूम हो कि डीएम त्यागराजन ने शहर के हर सरकारी दीवारों पर पेंटिंग कराने को लेकर प्रोत्साहित किया है। इसे लेके काम भी शुरू कर दिया गया है। मिथिला पेंटिंग से समाहरणालय एवं कोर्ट की सुंदरता में चार-चांद लग जाएगी। बताते चलें कि इसके लिए लगभग 35 हजार रुपए सिर्फ पेन्ट पर खर्च किए जाएंगे। शहर से बाहर अलग जिले के लोग भी पेंटिंग के माध्यम से यहां की संस्कृति और सभ्यता से परिचित हो पायेंगे।

शहर के चौक-चौराहे को भी मिथिलां पेंटिंग से सजाने की दिशा में करना चाहिए पहल

फिलहाल समाहरणालय पर पेंटिंग बनाने का जिम्मा बिहार बाल भवन किलकारी को दिया गया है। जो एक माह में दीवारों और भवन को सुंदर और आकर्षक पेंटिंग्स से सजाएगा। अगर इसी तरह शहर के प्रमुख चौक-चौराहों पर भी मिथिला पेंटिंग बनाने की दिशा में पहल किया जाये तो दरभंगा भी भारत के प्रमुख शहरों की सूची में आकर्षण का केंद्र होगा।

स्थानीय कलाकारों को भी मिल रही राष्ट्रीय व अंतरार्ष्टीय पहचान

मालूम हो कि मिथिला की कला एवं संस्कृति लोगों को बहुत ही प्रभावित करती है। वो इसके बारे में जानने को उत्सुक रहते हैं। घर की कलाकृति आज गाॅवों, शहरों, राजधानी से निकलकर विदेशों में भी धूम मचा रहा है। बता दें कि इससे मिथिला पेंटिंग के स्थानीय कलाकारों को भी रोजगार के अवसर मिल रहे हैं। वहीं इनसे उन्हें अपनी एक अलग पहचान बनाने का मौका भी मिला है और मिल रहा है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here