खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना 2020 में पूरा करने का लक्ष्य, धीमी गति से चल रही कार्य देख चालू होने की संभावना हुई कम।

0
795

खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना बनने से इस मार्ग पर ट्रेनों के चलने की आस लोगों में जगी थी। लेकिन 16 वर्ष बीत जाने के बाद भी यह काम रुका पड़ा है। बताते चलें कि 2003 में ही इस मार्ग का सर्वे किया गया था। जिसके बाद 2009 में इस लाइन को तैयार कर लिया जाना था। लेकिन इतने साल गुजर जाने के बाद भी यह जस का तस रहा। 14 किलोमीटर तक ही पटरी बिछाने का कार्य हुआ मालूम हो कि परियोजना के बंद होने के बाद इसे दुबारा 2007-08 में स्वीकृती मिलने पर कार्य शुरू किया गया जिस पर आज तक धीमी गति से ही काम चल रहा है। इसमें देरी होने के कारण अब इसे 2020 में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

44 किमी की है यह रेल परियोजना

44 किलोमीटरमीटर लंबी इस परियोजना मे अभी तक खगड़िया से इचरुआ तक केवल 14 किमी ही पटरी बिछाने का काम किया गया है। रेल परियोजना पूरी होने से लाखों आबादी होगी लाभान्वित 16 साल में इसका बजट 162 करोड़ से बढ़कर 575 करोड़ हो गया है। फिलहाल बताते चले कि इस परियोजना को 147 करोड़ रुपए की राशि ही आवंटित की गई है। जिससे यह योजना धीमी गति से चल रही है। खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेल परियोजना पूरी हो जाने से लाखों आबादी को इससे फायदा पहुंचेगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here