केरल में बाढ़ से हालात भयावह,अब तक 400 से अधिक लोगो ने गवाई जान

0
1396

केरल में दिन प्रतिदिन मूसलाधार बारिश होने कि वजह बाढ़ का प्रकोप आ गया है,और अब यह तबाही थमने का नाम नही ले रहा ।

केरल 70 वर्षों के सबसे भीषण बाढ़ से जूझ रहा है। करीब 400 लोगों की मृत्यु होने की पुष्टि की गई है और 324 से भी अधिक संख्या में लोग विस्थापित लोगो को विषथापित किया जा चुका है ।

एक तरफ आपदा प्रवन्धन की टीम तो लगी हुई है,साथ ही एयरफोर्स भी रेस्क्यू कर घरो और दूसरे जगहों में फसे हर एक लोगो को हेलीकाप्टर से निकाला जा रहा है,खबरों की माने तो एक गर्ववती महिला को हेलीकाप्टर के माध्यम से अस्पताल लाया गया,तब माँ ने बच्चे को जन्म दिया अब वो दोनो खतरे से बाहर है, उसके अलावा काफी सारे एनजीओ और आम लोग हर संभव मदद कर रहे।

कल पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी के अंतिम विदाई के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भी तुरंत प्रतिक्रिया दिया और केरल के लिए रवाना हो गये,वही आज उन्होंने हवाई सर्वे कर बाढ़ ग्रस्त इलाकों का जायजा लिया और अधिकारियों के साथ मीटिंग कर हर तरह से मदद देने का आश्वासन दिया,उन्होंने 500 करोड़ तत्काल राहत के लिए देने की बात कही।
वही 100 करोड़ और दिए जाएंगे इसकी घोषणा भी सरकार जल्द कर सकती है।

केरल सरकार ने ट्वीट कर मदद मांग रही है,उन्होंने केरल बाढ़ राहत कोष में पैसे भेजने की गुहार लागई है, कोई भी व्यक्ति मदद करने के इक्छुक यहां पैसा भेज सकता है ये खुद केरल के मुख्यमंत्री ने जारी किया है। ऐसे में सभी संवेदनशील लोगों ने नागरिकों से गुजारिश की है की केरल के बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद की जाए ।

इधर पूरे देश मे हर कोई इस घटना को सुन कर आहत हैं, और डोनेशन इकट्ठा करने में जुट गए लोग को जो बन पा रहा है मदद कर रहे है, इसके लिए प्रधाममंत्री ने भी खुशी जाहिर किये है।

इधर बिहार सरकार ने भी घोषणा कर तत्काल 10 करोड़ रुपये केरल सरकार के बाढ़ राहत कोष में भेज रही हैं ।
इस भीषण तबाही को देखते हुए विपक्ष के नेता राहुल गांधी ने प्रधानमामंत्री को धन्यवाद देते हुए केरल को 500 करोड़ की मदद को और बढ़ाने को कहा है, और केरल बाढ़ को नेशनल डिजास्टर घोषित करने की बात कही है।

गूगल ने भी शानिवार को कहा कि केरल के लोग अब बिना इंटरनेट के ऑफलाइन मैप के उपयोग से अपने लोकेशन भेज सकते है, ताकि उनकी स्थिति का पता कर मदद की जा सके,इसे गूगल का एक अच्छी पहल कहा जायेगा।

साभार- अंशु कुमार

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here