बिहार से नेपाल तक इस साल के अंत तक सीधी दौड़ेगी रेल, जयनगर- जनकपुर रेल लाइन का कार्य अंतिम चरण में।

0
934

जयनगर: भारतीय क्षेत्र मे दो भागों मे बटे मिथिला को कोसी महासेतु से जोड़ने के बाद, नेपाल स्थित मिथिला भी अब सीधे एक दूसरे से जुड़ जायेंगी। नेपाल रेलवे के अमान परिवर्तन के तहत शुरू हुआ काम अब आखिरी दौड़ में है, जिसके बाद भारत और नेपाल के बीच जल्द रेल द्वारा संबंध और मजबूत हो जायेंगा। आमान परिवर्तन के तहत तैयार किये जा रहे इस रेल खंड पर कार्य समाप्त होते ही रेलवे संरचना आयुक्त से सीआरएस करा, आम लोगों के लिए इसे खोल दिया जायेगा।

जयनगर- जनकपुर हो कुर्था तक तैयार की गई ट्रैक

नेपाल के जनकपुर – कुर्था के बीच 34 किलोमीटर लंबी रेल लाइन का काम लगभग पूरा हो गया है। इस खंड पर मालगाड़ियों का परिचालन शुरू कर के ब्लास्ट गिराने के साथ साथ ट्रैक बैठाने का कार्य जोर शोर से जारी हैं। ट्रैक के अलावा प्लेटफार्म और स्टेशन का निर्माण कार्य भी अंतिम चरण में है, साथ ही सिगनल और केबलिंग जैसे कार्य भी पूरे किये जाने हैं। इन कार्यों को पूरा कर इस साल के अंत तक ट्रेनों का परिचालन किया जायेगा।

जनकपुर से अयोध्या तक दौड़ेगी ट्रेन, बढ़ेगी व्यपारिक गतिविधियां

AD: PRUDENCE DARBHANGA

सरकार की राजा जनक की राजधानी जनकपुर से अयोध्या तक ट्रेन को चलाने की योजना है, जिसे जयनगर- दरभंगा हो सीतामढ़ी के रास्ते चलाया जा सकता हैं। इसके अलावा दिल्ली से दरभंगा और पटना हो जनकपुर तक राजधानी जैसी ट्रेनों के द्वारा भी कनेक्टिविटी बहाल किया जायेगा। इसके अलावा इस रूट का इस्तेमाल समानों के निर्यात के लिए भी किया जायेगा, जिससे आर्थिक गतिविधियों के कारण आसपास के इलाके आत्मनिर्भर होगें। पूरी परियोजना को ले हाल में ही रेलवे के उच्च अधिकारियों के दल ने भारत-नेपाल बार्डर रेल लिंक के संदर्भ में उच्च स्तरीय बैठक आयोजित की थी, रेलवे हर हाल में साल के अंत या 2019 की शुरुआत में परिचालन की शुरुआत करना चाहती हैं। जिसके लिए निर्माण समय पर पूरा करने हेतु, कार्यों में आ रही परेशानियों को जल्द से जल्द दूर करने की दिशा में रेलवे गंभीर हो काम कर रहा हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here