दरभंगा एयरपोर्ट पोर्टा टर्मिनल टेंडर की प्रक्रिया होगी जल्द पूरी, अगस्त से टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण हो जायेगा शुरू।

0
4184

पटना, अविनाश झा: दरभंगा एयरपोर्ट को ले कर हो रहे विभागीय कार्यवाही अब अंतिम दौर में है,और अब निर्माण प्रक्रिया जल्द शुरू होने को हैं। पटना स्थिति एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के सूत्रों के अनुसार एयरपोर्ट पर आधारभूत संरचना हेतु निविदाएं पहले ही आमंत्रित की जा चुकी हैं। इस में से दो अहम टर्मिनल बिल्डिंग और रनवे रिकारपेटिंग पर काम इस महीने के अंत या अगले महीने से शुरू हो जाना है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के सूत्रों के अनुसार दरभंगा उत्तर बिहार का पहला एयरपोर्ट होने के कारण खास हो गया है और फिलहाल यह पीएमओ कार्यालय की सीधी निगरानी में आ चुका है।

दरभंगा एयरपोर्ट पर प्रधानमंत्री का स्वागत करते स्थानीय जनप्रतिनिधि

हमें मिली जानकारी के अनुसार अस्थायी टर्मिनल निर्माण हेतु जारी किया गया टेंडर इस महीने के 23 तारीख तक अवार्ड किया जा सकता हैं। मालूम हो की टर्मिनल बिल्डिंग हेतु ओपने टेंडर के जरिए निविदा आमंत्रित किया गया है। यहां हम आप को बताते चलते हैं की ओपने टेंडर पर अवार्ड का काम दो चरणों में होता है। प्रारंभिक चरण में टेक्निकल बीड खोला जाता हैं। इस चरण में कंपनियों की तकनीकी दक्षता की जांच होती। इसमें से चुने गयें कंपनियों का दूसरे चरण में प्रवेश होता हैं। इस राउंड में प्राईस बीड होता हैं और न्यूनतम बोली से कंपनी को टेंडर अवार्ड हो जाता हैं।

दरभंगा एयरपोर्ट

मालूम हो की एयरपोर्ट पर जुलाई 2018 से ही उडा़न की योजना थी। पर एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की दरभंगा आयी टीम के रिपोर्ट में रनवे रिकारपेटिंग की अनुशंसा की गई थी। रिपोर्ट में एयरपोर्ट स्थिति रनवे को लगातार परिचालन के लिए फिट नहीं पाया गया था। रनवे पर कई जगह पर कायीं जमा होने की बात भी सामने आयी, जिसमें इंमरजेंसी ब्रेक के समय विमान के रनवे से फिसलने की भी संभावना जाहिर की गई थी। अतः रनवे रिकारपेटिंग तक विमान सेवा ना शुरू करने का फैसला हुआ।

मालूम हो की रनवे के लिए भी एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की ओर से 60 करोड़ की लिमिटेड निविदा आमंत्रित की गई हैं, जिसका अवार्ड भी इसी महीने होना हैं। एयरपोर्ट अथॉरिटी की ओर से हाल में किये गए ट्वीट में भी जनवरी 2019 तक एयरपोर्ट चालू करने की घोषणा हुई है। फिलहाल दरभंगा एयरपोर्ट के खुलते ही सिर्फ उत्तर बिहार ही नहीं बल्कि नेपाल तराई क्षेत्र के लोगों की पटना पर निर्भरता खत्म हो जायेंगी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here