दरभंगा-हरनगर के बीच ट्रेन परिचालन हेतु स्पीड ट्रायल कल, रेलवे की तैयारी जोरों पर।

0
2974

सकरी: सकरी-हसनपुर रेल लाइन के हरनगर स्टेशन तक ट्रेनों का परिचालन के लिए कल रेलवे के संरक्षा आयुक्त बिरौल हरनगर रेल खंड का स्पीड ट्रायल करेंगे। स्पीड ट्रायल के जरीए रेलवे ट्रैक की परिचालन के हिसाब से गुणवत्ताओं की जांच होगी। संरक्षा आयुक्त की रिपोर्ट के आधार पर हरी झंडी मिलते ही दरभंगा-हरनगर के बीच ट्रेनों का परिचालन शुरू किया जायेगा।

बाकी हैं कई काम

संरक्षा आयुक्त प्रमोद आचार्य के निरीक्षण को ले हरनगर मे तैयारियों के तहत ट्रैक के लेबल को दुरस्त करने का काम शुरू हो गया है। ट्रैक पर फिर से बोल्डर डाले गये, स्टेशन की बात करें तो इसकी रंगाई पोताई शुरू हो चुकी हैं। फिलहाल स्टेशन तक आने के लिए एप्रोच रोड बनना है, जिसको ले मिट्टीकरण का काम बाकी है। इसके बाद पीसीसी सड़क का निर्माण होना है, साथ ही कई कार्य शेष हैं।

दस साल बाद दौड़ेगी बिरौल से आगे ट्रेन

बिरौल स्टेशन

बिरौल से आगे ट्रेन परिचालन सीआरएस के बाद शुरू हो जायेगा, 2008 मे सकरी-बिरौल के बीच ट्रेन परिचालन को लालू प्रसाद ने रेलमंत्री रहते हरी झंडी दिखाई थी। स्टेशन, सिंगनल और समपार जैसे आधी अधूरी तैयारी के बीच उस समय ट्रेन चलाई गई थी। फिलहाल दस साल बाद रेलवे ने बिरौल से आगे ट्रेनों के परिचालन मे सफलता पायीं हैं,पूरे खंड पर सिंगनल का काम फिर से किया गया है। बिरौल से हरनगर की दूरी 9 किलोमीटर है और कुशेश्वरस्थान के पास होने के कारण यह बहुत ही महत्वपूर्ण स्टेशन हैं।

45 सालों से चल रही हैं सकरी-हसनपुर परियोजना

हरनगर स्टेशन

मालूम हो की 1972 में तत्कालीन रेलमंत्री ललित नारायण मिश्रा ने इस खंड पर छोटी लाइन निर्माण हेतु सर्वे की घोषणा की थीं, उनकी हत्या के बाद पूरा मामला फाइलों मे खो गया। पूरी योजना के तहत दरभंगा-हसनपुर तक नयी रेल लाईन बननी है, कुशेश्वरस्थान को जंक्शन बना खगड़िया, दरभंगा और सहरसा तक नयी लाईन भी प्रस्तावित है। 1997 में रेल मंत्री रामविलास पासवान ने इसका पुन शिलान्यास किया, जिसके बाद 2004 में लालू प्रसाद के रेल मंत्री बनने पर इस योजना को फंड मिलना शुरू हुआ। 2008 मे पहली बार सकरी से बिरौल तक ट्रेनों का परिचालन भी हुआ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here