मिथिला के लाल ने एक बार फिर बढ़ाया बिहार का मान, अमिताभ की मदद से चंद्रमा की सतह पर उतरेगा चंद्रयान-2, पूरी दुनिया में बजेगा डंका।

0
638

मिथिला के लाल ने एक बार फिर से अपनी काबिलियत का डंका बजाने जा रहा है पूरी दुनिया में। बताते चलें कि समस्तीपुर के कुबौली गांव निवासी और इसरो में वरीय वैज्ञानिक अमिताभ, चंद्रयान-2 के डिप्टी प्रोजेक्ट डायरेक्टर एवं आॅपरेशन डायरेक्टर है। 7 सितंबर को चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-2 उतरेगा, तो बिहारी प्रतिभा की धमक अंतरिक्ष समेत पूरे दुनिया में सुनाई पड़ेगी।

बिहारी प्रतिभा की गुंज पूरी दुनिया में

अमिताभ को बचपन से ही खेल-खेल के दौरान रेडियो को कल-पुर्जे खोलकर उन्हे दोबारा जोड़ने की कोशिश में मजा आता था। देश के अति महत्वपूर्ण मिशन में भागीदारी से गांव के लोग, मिथिलांचल समेत पूरा बिहार गौरवान्वित है। मालूम हो कि इससे पहले भी चंद्रयान-1 मिशन में प्रोजेक्ट मैनेजर के रूप में भूमिका निभाई थी। एएन काॅलेज आईएससी में एडमिशन लेने वाले अमिताभ ने एमएससी इन इलैक्ट्रोनिक की पढ़ाई यही से की। फिर इसके बाद बीआईटी मेसरा से एमटेक किया।

टीम के नेतृत्व की कमान अमिताभ पर

एमटेक के अंतिम साल प्रोजेक्ट वर्क के लिए इसरो के तीन केंद्र पर आवेदन किया। जहां इनको जोधपुर से बुलावा आया। 2002 में इसरो‌ से जुड़े। बता दें कि अमिताभ चंद्रयान-2 की उस टीम का नेतृत्व कर रहे हैं, कि चंद्रमा किस सतह पर उतरेगी। मालूम हो कि इसके लिए पहले रुस की मदद मांगी जा रही थी। लेकिन रुस इस मिशन से किसी कारणवश पीछे हट गया। जिसके बाद चंद्रयान-2 के लैंडर को विकसित करने की जिम्मेदारी अमिताभ और उनके टीम को मिली।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here