बिहार के इस शहर से चलेगी दो नयी ट्रेन मिलेगा ‘हमसफर’ साथ ही टाटा के लिए चलेगी ट्रेन

0
17487

भागलपुर से दो नयी एक्सप्रेस ट्रेन चलाने की कवायद रेलवे बोर्ड स्तर से चल रही है. इसमें एक हमसफर एक्सप्रेस है, तो दूसरा टाटानगर एक्सप्रेस. हमसफर एक्सप्रेस भागलपुर से आनंद विहार और दूसरी एक्सप्रेस ट्रेन टाटानगर के लिए होगी. रेलवे बोर्ड ने हमसफर व टाटानगर एक्सप्रेस के रख-रखाव के लिए पूर्व रेलवे और मालदा  रेल मंडल को फिजिबिलिटी रिपोर्ट भेज दी है. केवल अब ट्रेन रखने की जगह व टाइम टेबुल तय होना बाकी है. 

रेलवे बोर्ड को जगह और टाइम टेबुल की रिपोर्ट पूर्व रेलवे मुख्यालय व मालदा रेल मंडल स्तर से जल्द ही भेजा जायेगा. वहीं, यह भी जल्द ही तय हो जायेगा कि ये दोनों ट्रेन सप्ताह में एक दिन चलेगी या फिर रोजाना. सब कुछ ठीक-ठाक रहा, तो अप्रैल से ये ट्रेनें चलनी शुरू हो जायेंगी. इधर, भागलपुर से यशंवतपुर के बीच अंग एक्सप्रेस को सप्ताह में तीन दिन चलाने के लिए रेलवे बोर्ड ने सुझाव मांगा है. यह ट्रेन वर्तमान में सप्ताह में एक दिन चलती है.  हमसफर एक्सप्रेस भागलपुर से आनंद विहार और दूसरी ट्रेन टाटानगर के लिएरेलवे बोर्ड स्तर से चल रही कवायद, पूर्व रेलवे व मालदा रेल मंडल को भेजी फिजिबिलिटी रिपोर्टरख-रखाव के लिए जगह और टाइम टेबुल की रिपोर्ट पूर्व रेलवे मुख्यालय व मालदा रेल मंडल को भेजा जायेगा

फिलहाल होगा सेकेंड्री मेंटनेंस

दोनों ट्रेन जब चलेंगी, तो इसका भागलपुर में केवल सेकेंड्री मेंटेनेंस होगा. दरअसल, ट्रेन उत्तर रेलवे की होगी. वहीं, भागलपुर में पिट लाइन की कमी है, जिससे नयी ट्रेनों के रख-रखाव की संभव नहीं है. 

दिल्ली जाने वाले को मिलेगी राहत

 भागलपुर से आनंद विहार के लिए  विक्रमशिला, साप्ताहिक, तिनसुकिया व फरक्का ट्रेनें हैं. इसमें तिनसुकिया व फरक्का एक्सप्रेस भागलपुर के रास्ते गुजरने वाली ट्रेनें में से है, तो साप्ताहिक एक्सप्रेस एक दिन चलती है. इसके चलते हर कोई विक्रमशिला एक्सप्रेस से ही आनंद विहार जाना चाहते हैं और इस ट्रेन को प्राथमिकता भी दे रहे हैं. ऐसे में इस पर यात्रियों का दबाव बना रहता है. हमसफर एक्सप्रेस के चलते ही विक्रमशिला एक्सप्रेस पर यात्रियों का दबाव कम हो जायेगा.  समृद्ध होगा भागलपुर का बाजारअभी टाटानगर के लिए भागलपुर से सीधे रुट पर एक भी ट्रेन नहीं है. इसके चलाये जाने से व्यापार बढ़ेगा और भागलपुर का बाजार समृद्ध होगा. टाटा जाने के लिए यात्रियों को बस या फिर किऊल से  ट्रेनें पकड़नी पड़ती  है.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here