बिहार में बीएड की परीक्षा में शामिल हो रहे छात्रों के साथ हो रहा मजाक !!

0
463

सहरसा/पटना: नीतीश कुमार जहां सुशासन की बात करते है, वहीं बिहार के कई जिलों में आयोजित की गई बीएड की परीक्षा में छात्रों के कमीज़ खुलवाकर गंजी में परीक्षा देने पर विवश किया गया। बिहार सरकार की इन्हीं करतूतों की वजह से जब कोई छात्र बिहार से बाहर पढ़ने जाता है तो कहा जाता है चोरी कर के ही पास हुआ होगा। अन्य राज्यों मे परीक्षा मे कदाचार रोकने के शालीनता से कई कदम उठाए जाते है और कदाचार पर नियंत्रण भी किया जाता हैं।

फिर क्यों नीतीश कुमार को अपने ही छात्रों पर भरोसा नहीं रहा, जिनका देश विदेश प्रतिभा का लोहा मनवाते है। इससे बिहार में पढ़ने वाले छात्रों का मनोबल गिरता है। ठीक परीक्षा देने से पूर्व ऐसा आदेश अा जाए तो आप सोच सकते है की, परीक्षा देने आए छात्रों की मानसिक स्थिति क्या होती होगी। यह सरकार या सिस्टम को नजर कैसे आएगी, जहां आधे से ज्यादा नेता तो खुद अनपढ़ होते है। ऐसे आदेश देने वाले नेताओ या अधिकारियों को सोचना चाहिए कि बिहार के बाहर रह रहे उन तमाम छात्रों का आप मजाक बना रहे है।

अगर सरकार को लगता है आने वाले छात्र चोरी कर के परीक्षा पास होंगे तो ऐसी परीक्षा आयोजित ही नहीं करनी चाहिए। पूरे राज्य में आज बहुत जगह छात्रों के कमीज़ और जूते खुलवाए गए। ये खबर सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर गंभीर सवाल जरूर खरे करते है। जहा कॉलेज तो है पर पढ़ने वाले छात्र नहीं। मालूम हो की पूरे बिहार में नालंदा खुला विश्वविद्यालय द्वार बीएड की प्रवेश परीक्षा आयोजित की गई थी। छात्रों के प्रवेश पत्र में ये निर्देश दिया गया था कि फूल वाह की कमीज़ और जूते पहनकर परीक्षा स्थल पर ना आए। ये उस घटना कि याद दिलाती है, जब बिहार के पिछले साल आर्मी द्वारा आयोजित परीक्षा में छात्रों के कमीज़ और पैंट खुलवाए गए थे। उस घटना पर तो पूरे देश में हंगामा मच गया था, फिलहाल ऐसी घटनाओं से सबक ना ले फिर से दोहराया जा रहा है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here