पटना पहुची वाजपेयी जी की अस्थियां , गंगा कोसी बागमती समेत कई नदियों में प्रवाहित की जायेगी

0
1488

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां गंगा सहित बिहार की सभी नदियों में प्रवाहित की जाएंगी। 22 अगस्त को पटना में गंगा में अस्थि विसर्जन समारोह होगा। अटलजी की अस्थि आज भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय पटना लेकर आ चुके है । वही कुछ देर में श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में सर्वदलीय श्रद्धांजलि सभा का आयोजन होगा। इसमें एनडीए के अलावा विपक्षी दलों के नेताओं को भी आमंत्रण भेजा गया है। भाजपा के राज्य उपाध्यक्ष देवेश कुमार ने आज बताया कि भारत रत्न वाजपेयी के निधन से बिहार भाजपा में शोक का माहौल है और वाजपेयी की याद को जीवंत रखने के लिए प्रदेश भाजपा उनकी अस्थियों को आगामी 22 अगस्त को पटना में गंगा सहित बिहार की सभी नदियों में प्रवाहित करेगी.

पटना से अटल जी की अस्थियों को बिहार की अन्य नदियों कोसी, बागमती, गंडक आदि में प्रवाहित करने के लिए रवाना किया जाएगा। स्थानीय स्तर पर वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में विभिन्न नदियों में अटल जी की अस्थियां विसर्जित की जाएंगी।

अटल जी का बिहार से खास लगाव रहा है। बिहारवासियों के दिल में उनके लिए बहुत सम्मान है। अटल जी की याद को जीवंत रखने के लिए गंगा सहित बिहार की सभी नदियों में अस्थियां प्रवाहित करने का निर्णय लिया गया है।

बक्सर, सिमरिया, अजगैबीनाथ, सुल्तानगंज में भी होगा अस्थि विसर्जन

जोर पकड़ती जा रही हैं कोसी महासेतु को अटल जी के नाम रखने की मांग

कोसी को रेल और सड़क महासेतु से जोड़ने वाले अटल जी का इसी महीने की 16 तारीख को स्वर्गवास हो गया। कोसी के जरिए मिथिला के विभक्त दो हिस्सों को जोड़ विकास की कहानी लिख, अटल जी ने इस स्थान लोगों के दिल में बनाया। आज उसी के परिणाम के तहत कोसी को अटल महासेतु के रूप मे बदलने की बात सामने आ रहा हैं, विभिन्न स्थानों से उठ रही इस मांगा को अपार जनसमर्थन मिल रहा है। जिसके तहत जल्द से जल्द अटल जी के नाम पर, कोसी महासेतु किये जाने की मांगा हो रही है।

पटना सहित राज्य के अन्य जिलों के नदीयो में अटल जी की अस्थियां प्रवाहित करने के लिए भेजी जायेंगी :

जिसमे गंगा, पुनपुन, महानंदा, बागमती, कोसी, कमला, बूढ़ी गंडक, सरयू (घाघरा), सोन, कर्मनाशा, फल्गु और अजय नदी है

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here