तेरे जैसा यार कहा , भावुक होकर आडवाणी ने कहा था- मैं ‘ miss’ करूंगा, स्टेशन पर पहली मुलाकात हुई थी ।

0
9171

नयी दिल्ली: वाजपेयी जी के निधन के बाद 65 बर्षों तक उनके सबसे करीबी मित्र रहे, आडवाणी ने कहा की अटलजी की कमी अत्यधिक महसूस करूंगा । लालकृष्ण आडवाणी के अनुसार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जैसा सबसे बड़े कद वाला राजनेता उन्होने अपने जीवन में नहीं देखा, अपनी गहरे दुख और निराशा जाहिर करने के लिए उनके पास शब्द नहीं है। उन्होंने कहा कि उनके नेतृत्व में पहली बार गैर कांग्रेसी स्थिर सरकार देश में बनी, जिनके लिए वे याद किए जाएंगे अटल जी के साथ 6 साल तक एक सहायक के तौर पर काम करने का मौका मिला, मेरे सीनियर के तौर पर वे हमेशा हर मुमकिन तरीके से सहयोग और प्रेरित करने का काम करते।

अटल आडवाणी की शुरुवात

अटल आडवाणी की जोड़ी भारतीय इतिहास के पन्ने पर सुनहरे अक्षरों में लिखी जाएंगी, अटल और आडवाणी की शुरवात भी पत्रकारिता से शुरू हुईं थी। जब आडवाणी राजस्थान के कोटा शहर में संघ के प्रचारक के तौर पर काम करते थे, उस समय अटल बिहारी वाजपेयी अपनें भाषण के दम पर तेजी से आगे बढ़ रहे थे। जनसंघ के संस्थाक श्यामा प्रसाद मुखर्जी और पंडित दीनदयाल उपाध्याय वाजपेयी जी के भाषण से इतने प्रभावित थे, की वे चाहते थे की अगर अटल जी सांसद पहुंच जाए। ओजस्वी भाषण और बोली के धनी अटल जी को संसद पहुँचा कर उनकी विचारों को संसद के माध्यम से लोगों तक ले जाना का विचार श्यामा प्रसाद मुखर्जी का था।

अटल और आडवाणी की मुलाकात ।

पंडित श्यामा प्रसाद मुखर्जी के सहयोगी के तौर पर वाजपेयी जी ट्रेन से मुंबई की यात्रा पर जा रहे थे। उस समय कोटा में संघ प्रचारक के रूप में काम कर रहे आडवाणी जी को इस बात का पता चला की संघ संस्थापक मुखर्जी कोटा स्टेशन से गुजरने वाले है, तो वह पहले से ही स्टेशन पहुंच चुके थे। जहा संघ संस्थापक ने लालकृष्ण आडवानी से अटल बिहारी वाजपेयी का परिचय करवाया, उसके बाद तो ये जोड़ी देश का चहेरा बन गई ।

प्रधानमंत्री और उपप्रधानमंत्री तक पहुँची जोड़ी, त्रिमूर्ति के रूप में मिला मुरली मनोहर जोशी का साथ

समय के साथ साथ जय जोड़ी अनेक बाधाओं और असफलताओं को पार करते हुए केंद्र तक जा पहुँची। 1996 में 13 दिन की सरकार मे त्रिमूर्ति के रूप मे विख्यात अटल, आडवाणी और जोशी ने महत्वपूर्ण पदों पर जा सत्ता की कमान संभाली। बाद में आडवाणी को प्रोन्नति देते हुए देश का उप प्रधानमंत्री भी बनाया गया।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here