महागठबंधन में अब भी नहीं बनी बात, पसंद की सीट न मिलने से माझी नाराज तो वही दरभंगा से आरजेडी नेता अब्दुल बारी सिद्दिकी लड़ सकते हैं चुनाव

0
6178

बिहार में महागठबंधन में सीट शेयरिंग को लेकर दिल्ली में बैठकों का दौर जारी है. सूत्रों के हवाले से हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी सीट शेयरिंग को लेकर नाराजगी जताई है. जानकारी के मुताबिक मांझी ने पंसद की सीट नहीं मिलने से नाराज हैं. वहीं, कांग्रेस के बिहार प्रभारी ने सीटों पर तालमेल होने की बात कही है।

वहीं, कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने कहा है कि महागठबंधन में सब साथ हैं और तालमेल हो चुका है. उन्होंने कहा कि कल बारह बजे से साढ़े आठ बजे तक हमने बैठक कर सीटों पर सहमति बना ली है और 17 मार्च को ऐलान करेंगे. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि खास रणनीति के तहत हम अभी घोषणा नहीं कर रहे हैं.

बताते चलें कि लोकसभा चुनाव को लेकर बिहार में महागठबंधन के बीच सीटों का बंटवारा तय हो गया है. विश्वस्त्र सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सभी नेताओं की सहमति से ये डील फाइनल हुई है और इसकी औपचारिक घोषणा 17 मार्च को पटना में ही होगी.

सूत्रों के अनुसार, सीट बंटवारे के बाद आरजेडी के खाते में 19, कांग्रेस के खाते में 11, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (आरएलएसपी) को 4 जबकि मुकेश साहनी की विकासशील इंसान पार्टी को 2, जीतन राम मांझी की हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा को दो सीटें मिली हैं. इस बंटवारे में सीपीआई (माले) को एक जबकि सीपीआई को एक सीट मिली है. इस फॉर्मूले के तहत एक सीट राहुल गांधी के कहने पर राजद कांग्रेस के लिए छोड़ सकती है. इसके अलावा शरद यादव, मुकेश साहनी को कांग्रेस/आरजेडी के सिंबल पर चुनाव लड़ाने की योजना भी है.

बिहार की दरभंगा सीट से आरजेडी नेता अब्दुल बारी सिद्दिकी चुनाव लड़ सकते हैं. वहीं इस परिस्थिति में मधुबनी की सीट कांग्रेस के खाते में जा सकती है. मधुबनी से डॉ शकील अहमद कांग्रेस के उम्मीदवार हो सकते हैं. सीटों के बंटवारे की औपचारिक घोषणा से पहले 16 मार्च को राहुल गांधी-तेजस्वी यादव की  मुलाकात होगी जिसके बाद 17 मार्च को पटना में महागठबंधन के सीटों के बंटवारे की औपचारिक घोषणा होगी.


कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here